Programming Language – An easy Explanation in Hindi

I remember, when I started my coding journey, the first question comes to my mind was, “What is a Programming language?

To find my answer, मैंने Internet पर 50 से भी ज्यादा Articles इस topic पर पढ़ा। सभी Articles के Writer ने इसे अपने ढंग से अच्छी तरह समझाया था।

But, the problem I faced– किसी भी Article में Complete Information नहीं था। और बहुत सारे Articles कि Definition’s मेरे जैसे Hindi Native People के लिए समझना मुश्किल थी।

So, मैंने इस Topic पर अपनी Knowledge आपके साथ Easy Words में Share करने कि एक छोटी सी कोशिश की है। I Hope, इस Article को पढ़ने के बाद आपको दूसरी किसी Article को देखने कि जरूरत न पड़े।

What is Programming Language?

You must have played video games on your computer. अब Assume करे कि आप एक Gamer हो, इस Case में अगर आपको अपने Game में कोई Movement करनी हो, तो आपको Gaming Remote की Help लेनी होगी।

क्योकि आपका Game सिर्फ उस Remote के Signals को समझ सकता है। वो आपके Languages को नहीं समझ सकता।

इसी तरह Computer भी सिर्फ Signals को समझते है, आपने Binary Digit के बारे में जरूर सूना होगा। Computer सिर्फ 0 और 1, मतलब ON और OFF की भाषा ही समझते है। उन्हें HINDI, ENGLISH जैसी Human Languages समझ में नहीं आती।

Programming language is a way of communication between computers and humans. It gives us the power to instruct the computer in their native language.

अब नहीं हमें Computer की भाषा समझ आती है, और नही Computer को हमारी, तब Programming Language एक Translator की तरह हमारे और Computer के इस Communication Barrier को खत्म करता है, जिससे हम Easily Computer को Instruction दे पाते है।

हम जानते है, Computer बिना किसी Instructions के कोई भी काम नहीं कर सकता।

How Programming Language breaks the communication barrier?

हमने ये तो जाना कि Programming Language, हमारे और Computer के बिच की Communication barrier को खत्म कर देता है, But How?

जैसा कि मैंने आपको पहले भी बताया है कि Computer सिर्फ Machine Language ही समझते है, इन्हे Binary Digit में Expressed किया जाता है। जो 1s और 0s के Form में होते है।

अब हमारे लिए Binary Digit में Program लिखना एक बहुत बड़ा Headache का काम है, इसलिए High Level Programming Languages बनाये गए।

इनके Syntax, English Word की तरह होते है, जिनकी मदद से हम Computer को किसी भी काम के लिए Easily Instruct कर सकते है।

आम तौर पर, जब भी हम High Level Language में कोई Instruction को लिखते है, तो वो Text Form में File में Save होता है ( उस Program को हम Source Code भी कहते है ), फिर यह Source Code, Compiler कि मदद से Object Code ( Machine Language ) में Convert हो जाता है। फिर Compiler हमे एक Executable Program देता है, जिसे हम किसी भी Machine पर Run करवा सकते है।

Purpose Based Programming Language

पहले के समय में, Mostly जो Programming Language बनते थे वो किसी Single Purpose के लिए Designed होते थे। उनका काम किसी Specific Problem को Solve करने का था।

For Example –

  • ML, OCAML, Haskell are appropriate for research work.
  • FORTRAN and APL are suitable for programming related to mathematical purposes.

इस तरह के Programming Languages, जो किसी Particular Need के लिए Designed किये गए हो, ऐसे Languages को हम Domain Specific Programming Language कहते है।

आज के समय के जो High Level Programming Language है, वो एक से ज्यादा Domain के Need को Fulfill करने के लिए Designed है, और इस तरह के Language को हम General Purpose Programming Language कहते है।

  • Java can be used for developing interactive webpages as well as making games.
  • Python, Perl, Ruby can be used for web programming as well as development of desktop applications.

Low-Level vs. High-Level Programming Languages

Low-Level Programming LanguageHigh-Level Programming Language
Low-level programming languages are closer to machine code.High-level programming languages are closer to how humans communicate.
It is more difficult for humans to read.It’s easy because the language is pretty much in English.
It directly interacts with the computer.It interacts through a compiler
Common Types of low-level language are – assembly language and machine language.High-level programming language includes Python, Java, JavaScript, etc

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *